डोकलाम में भारत और चीन मिलकर समाधान निकालेंगे ! राजनाथ

0
34

2628072017084405नई दिल्ली- भारत और चीन के बीच पिछले दो महीने से लगातार चल रहे डोकलाम विवाद को लेकर भारत ने करारा जवाब दिया है, भारत ने कहा है कि किसी भी मुल्क में भारत पर आंख उठाकर देखने की हिम्मत नहीं है, ये बातें केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कही है, उन्होंने दुश्मनों को खुले तौर से चेतावनी दी है, आईटीबीपी के कार्यक्रम में राजनाथ सिंह ने कहा हैं कि दुनिया में कौन सी ताकत है जो भारत की ओर आंखें उठाकर देखेगा, हमारे जवान में हिम्मती हैं, इनके रहते दुनिया की कोई ताकत आंखें नहीं उठा सकता है, उन्होंने भारत और चीन के बीच जारी डोकलाम विवाद पर भी अपनी बात रखते हुए कहा कि डोकलाम में भारत और चीन मिलकर समाधान निकालेंगे, उन्होंने कहा कि मुझे यकीन है कि चीन सकारात्मक कदम उठायेगा, गृहमंत्री ने सख्त लहजे में कहा कि वो अपने देश की सुरक्षा पर आंच नहीं देंगे हालांकि, राजनाथ ने ये भी कहा कि भारत ने कभी किसी के ऊपर हमला नहीं किया, उन्होंने आगे कहा कि हम अपने सभी पड़ोसियों से अच्छे संबंध रखना चाहते हैं, और इसीलिए प्रधानमंत्री मोदी ने शपथग्रहण समारोह में सभी पड़ोसियों को बुलाया था, उन्होंने कहा कि मैं सभी पड़ोसी देशोंdownload को एक संदेश देना चाहता हूं कि भारत शांति का इच्छुक है, भारत डोकलाम विवाद का हल चाहता है, हम संघर्ष नहीं शांति चाहते हैं, उम्मीद करते हैं कि चीन भी शांति की ओर कदम उठाएगा, उन्होंने साथ ही स्पष्ट किया कि भारतीय सुरक्षा बल देश की सीमाओं की रक्षा करने में सक्षम है, उन्होंने कहा कि हमारे सुरक्षा बलों के पास भारतीय सीमाओं की रक्षा करने की पूरी ताकत है, आईटीबीपी जम्मू कश्मीर से अरूणाचल प्रदेश तक 4,057 किलोमीटर लंबी भारत-चीन सीमा की रक्षा करता है, भारतीय बलों ने सिक्किम सेक्टर के डोकलाम क्षेत्र में चीनी बलों को सड़क निर्माण करने से रोक दिया था, जिसके बाद से भारत एवं चीन के बीच वहां गतिरोध की स्थिति बनी हुई है, वही केंद्रीय गृहमंत्री ने स्पष्ट कर दिया कि 15 अगस्त को चीनी सैनिक लद्दाख के पेंगोंग झील इलाके में भारतीय सीमा में घुसपैठ करने की कोशिश की थी, उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय जवानों ने जब उन्हें ऐसा करने से रोका तो दोनों के बीच झड़प हो गई थी, उस दौरान वहां आईटीबीपी के अलावा सेना के जवान भी थे.

व्यू इण्डिया टाइम्स से हेमंत श्रीवास्तव की रिपोर्ट 

LEAVE A REPLY