गौतमबुद्धनगर की हाईटेक जेल में हाईटेक कमाई…

0
223

नॉएडा – गौतमबुद्धनगdefaultर जिला कारागार में बिसाहड़ा कांड के अरोपी की मौत के बाद हर रोज एक न एक राज खुलता सामने आ रहा है, रवी की मौत के बाद जिला कारागार में तैनात दोनों जेलरों पर वसूली और मारपीट का आरोप लगाया गया है, वही शिकायत होने पर दोनों अधिकारियों को मुख्यालय से सम्बद्ध भी कर दिया गया, जेल अस्पताल में दवाइयों और उपचार  के नाम पर बंदियों ने अधिकारियों पर वसूली का आरोप तय किया है, गौरतलब हो कि अब जेल प्रशाशन पर उनके ही विभाग के कुछ लोगो ने कमीशन के बटवारे को लेकर भी षड़यंत्र रचने का आरोप लगाया है, एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जेल में बाहर से आने वाले हर सामान पर मोटी रकम कमीशन के तौर पर तय है और इस कमीशन की बंदर बांट बदस्तूर की जाती है, इस कमाई में  नीचे से लेकर ऊपर2cf82057-de99-44da-9bb2-0ea23fab498d तक के अधिकारीयों का हिस्सा सेट है, बीते पांच माह से बजट न होने की वजह से बाहर से खरीदे हुए सामानों का बिल भुगतान भलें ही नहीं हुआ था लेकिन कुछ दिन पहले ही पांचो माह का बजट एक साथ दिया गया है, इस वजह से लाखों रुपये  जेल प्रशाशन की जेब में कमीशन के रूप में आया है, आरोप ये भी है कि जेल के वरिष्ट अधिकारी सत्ता का रौब दिखाकर कमीशन की मोटी रकम को हजम करना चाहते हैं इसलिए उन्होंने अपने ही दो अधिकारीयों के खिलाफ षड़यंत्र रचकर उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया, जब कि दोनों अधिकारी कमीशन की रकम में बराबर के हिस्सेदार थे, आरोप यह भी है कि जेल में आने वाले हर सामान पर कमीशन का खेल चल रहा है और अब माह का बजट आते ही यह बन्दर बाँट फिर शुरू हो गया है, आरोप है कि वरिष्ठ अधिकारियों ने अपने चहेते बंदियों से मारपीट का आरोप लगवाकर अपने रास्ते के कांटे और मोटी रकम के हिस्सेदारों को पहलें ही दूध से मक्खी की तरह अलग कर दिया है ताकि कमीशन की रकम अकेले ही डकार सकें इसके लिये वह सत्ताधारियों से नजदीकी का रौब दिखाने से भी नहीं चूक रहे हैं, रविन की मां के मुताबिक़ बीते दिनों लुक्सर स्थित जिला जेल में 23 सितंबर को आधा दर्जन युवकों ने जेल में बंद रूपेंद्र, विनय, भीम तथा रविन उर्फ रॉबिन उर्फ  रवि के साथ मारपीट की थी, विरोध करने पर जेल अभिरक्षकों ने भी उनको पीटा था जिससे रॉबिन पुत्र रणवीर की हालत बिगड़ गई जिसके बाद उसे जेल में मौजूद अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन मंगलवार को रॉबिन की हालत अचानक बिगड़ गई जिसके बाद उसे पहले नोएडा जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन डॉक्टरों ने यहां चैकअप के बाद उसकी हालत गंभीर बताई और कहा कि उसके लग्स में इनफेंक्शन है, और किडनी भी खराब है, जिसके बाद उसे  करीब चार बजे दिल्ली के लोक नायक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसकी देर शाम उपचार के दौरान मौत हो गई, मौत के बाद जहाँ उसके गाँव के लोगों ने उसे शहीद का दर्जा देते हुए अंतिम संस्कार किया है वही इस विभाग के उच्च अधिकारी इस पुरे मामलें की निष्पक्ष जाँच करने  का दंभ भरते जरुर नजर आ रहे है, उनके मुताबिक़ ” न्यायिक जांच में सभी आरोपो की जांच होगी, जो दोषी होगा उसके खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।” -वी के शेखर, डी आई जी जेल, लेकिन  इस भ्रष्ट तंत्र के आगे ईमानदार डीआईजी साहब का वादा उनकी कर्म कसौटी पर कितना खरा उतरेगा यह तो वक्त ही तय करेगा अभी तो महज इन्तजार ही करना होगा…
ग्रेटर नोएडा से भरत एस सिंह राजावत के साथ आकाश गुप्ता की रिपोर्ट।

LEAVE A REPLY