वाराणसी में बड़ा हादसा, निर्माणाधीन ओवरब्रिज गिरा !

0
194

Yogi-Adityanath-14-1490529612_835x547वाराणसी उत्तरप्रदेश- पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रेलवे स्टेशन के सामने बन रहे फ्लाई ओवर की दो बीम गिरने से एक दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई, आपको बताते चले वाराणसी में फ्लाईओवर के निर्माण में बरती जा लापरवाही से मंगलवार शाम बड़ा हादसा हो गया, बिना रूट डायवर्जन के पिलर पर रखी जा रहीं दो बीम गिरने से कोहराम मच गया, आधा दर्जन से ज्यादा वाहन इन बीमों के नीचे दब गए, जिसमें से 18 से ज्यादा लोगों की जान चली गई है, जबकि कई गंभीर रूप से घायल हैं, एनडीआरएफ, सेना, पुलिस, पीएसी व स्थानीय लोगों की मदद से चार घंटे तक चले राहत और बचाव कार्य के बाद दोनों बीम को मौके से हटा दिया गया है, घटना पर प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और राष्ट्रपति ने दुख व्यक्त किया है, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक जांच समिति भी गठित कर दी है और मृतकों को पांच-पांच और घायलों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है, देर रात मुख्यमंत्री बनारस पहुंचे और घटना स्थल का जायजा लिया, इसके बाद वह घायलों से मिलने अस्पताल भी गए, आपको बता दें कैंट स्टेशन के करीब शाम 5.20 बजे यह घटना हुई बीम के नीचे एक रोडवेज बस, एक बोलेरो, दो कार, एक आटो रिक्शा और चार बाइक दब गईं थीं, मौके पर अफरा-तफरी और चीख-पुकार मच गई, नौ क्रेन की मदद से दोनों बीम को करीब चार घंटे में उठाया जा सका, हादसे का कारण पहली नजर में उत्तरप्रदेश सेतु निर्माण निगम द्वारा लापरवाही से किया जा रहा कार्य बताया जा रहा है, ट्रैफिक डायवर्जन किए बिना ही निर्माण कार्य किया जा रहा था, प्रशासन ने पुल गिरने के कुछ घंटे बाद ही कार्रवाई करके चार अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है, सस्पेंड होने वाले अधिकारियों में चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर एचसी तिवारी, प्रोजेक्ट मैनेजर केआर सूदन, सहायक अभियंता राजेश सिंह और अवर अभियंता लालचंद शामिल हैं.

व्यू इण्डिया टाइम्स के लिए अभिषेक पाण्डेय की रिपोर्ट 

 

LEAVE A REPLY